Thursday, 14 June 2012

अन्नपूर्णा ....22


भैया के कलाई क़ी राखी बनूगी,
और रसोई कि अन्नपूर्णा ,
माँ मुझको जन्म लेने दो ना ,
बन क़र दिखा दूंगी तुम्हे ,
 एक दिन मैं "कल्पना  " !
                            भैया के भी चार हाथ नही हैं ,
                            और ना ही चार पैर ,
                            जो वो कर सकते है,
                            मैं भी करुँगी !
                            जीवन के पथ पर उषा सी तेज ,
                            माँ मुझको जन्म लेने दो ना ,
                            "किरण" सी  मैं भी चमकुंगी  !
संस्कार को धरोहर समझूँगी,
मुझको जन्म दे कर बन जावो,
तुम  मेरी ईस्वर!
"प्रतिभा "सा सम्मान पाउंगी !
जीवन के सुर को" लता" सी गाउंगी !
खुशियों का साथ बनुगी ,
और गम का बनुगी मैं  सहारा !
                                   मुझको भी तो ईस्वर ने ही रचा है ,
                                   मुझसे ये भेद कैसा ,
                                   माँ मुझको भी जन्म लेने दो ना ,
                                    मैं भी बनुगी  मदर टेरेसा .....



1 comment:

  1. सुन्दर रचना.....

    अनु

    ReplyDelete