Tuesday, 10 July 2012

तारे ..... 23

बचपन से सुना है ,
तुममे अजब सी शक्ति है !
तुम अपनी दिशा बदल कर ,
किस्मत सबकी बदल देते हो !
                          ऐ तारे मेरी भी  सुन लो !
                          तुम अपनी दिशा बदल कर ,
                          किस्मत को मेरी बदल दो!
                          जितने  मोती बीखर गये हैं ,
                           उनको  माला  मे फिर से पिरो दो !
                           असंयामित  जीवन को मेरे ,
                           संयमित कर दो
गिन गिन  कर तुम को ,
कितनी रातें कट गई ,
पलकें फिर भी नींद के ,
आहट को तरस गयी !
                          ऐ तारे तुम सून  मेरी ,
                         सुना है  टूट  कर भी तुम ,
                         मनन्त कों पुरा करते हो ,
                         एक बार मेरी भी सुन लो !
                        खुशियों से जीवन को भर दो !
                        तुम अपनी दिशा बदल कर ,
                       किस्मत को मेरी बदल दो ....

1 comment: